Khamoshiyon Mein Dheemi Si Aawaaz Hai – Friends Shayari

Khamoshiyon Mein Dheemi Si Aawaaz Hai,
Tanhaiyon Mein Bhi Ek Gehra Raaz Hai.
Milte Nahin Hai Sabko Achchhe Dost Yahan.
Aap Jo Mile Ho Humein Khud Par Naaz Hai.

खामोशियों में धीमी सी आवाज़ है,
तन्हाईयों में भी एक गहरा राज़ है,
मिलते नही हैं सबको अच्छे दोस्त यहाँ,
आप जो मिले हो हमें खुद पर नाज़ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here